सोनिया के करीबी, प्रवासी भारतीय थम्पी को 288 करोड़ का नोटिस

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने प्रवासी भारतीय व्यवसायी सीसी थम्पी और उनकी कंपनियों को दिल्ली और आसपास के इलाकों में बड़े बड़े भूखंड खरीदने में विदेशी विनिमय संबंधी नियम कानून के उल्लंघन के आरोप में 288 करोड़ रुपए से अधिक का नोटिस भेजा है।

कारण बताओ नोटिस में पूछा गया है कि इन सम्पत्तियों को केंद्र के खाते के लिए जब्त क्यों न कर लिया जाए।

ईडी ने थम्पी के खिलाफ विदेशी विनिमय प्रबंध अधिनियम (फेमा) के तहत एक मामला पिछले साल दर्ज किया था। ईडी ने उनकी जिन तीन फर्मों को नोटिस जारी किए हैं उनमें हॉलीडे सिटी सेंटर प्रा.लि., हॉलीडे प्रापर्टीज प्रा लि. और हॉलीडे बेकल रिजाट्र्स प्रा.लि. शामिल हैं।

ईडी ने एक बयान में कहा कि प्रवासी भारतीय थम्पी ने अपनी कंपनी हॉलीडे सिटी सेंटर प्रा.लि. के नाम से हरियाणा के पलवल और फरीदाबाद जिलों में बड़े बड़े आकार के कृषि भूखंड खरीदे. ये सौदे भूमि संबंधी कानून के प्रावधानों से कन्नी काटकर और फेमा का उल्लंघन कर के किए गए।

बयान के मुताबिक एक शिकायत पर जांच से पता लगा कि थम्पी देश के बाहर रह रह रहे थे। उन्होंने अपनी इन तीन कंपनियों को बिना गारंटी के कर्ज दिए थे। बाद में इन ऋणों को कंपनियों के शेयरों में तब्दील कर दिया गया और सारे शेयर उनके और उनके परिवार वालों नाम कर दिए गए।

उस पैसे से उन्होंने इन कंपनियों के जरिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में पलवल हरियाणा और गौतमबुद्ध नगर उत्तर प्रदेश में बड़े बड़े जमीन के टुकड़े खरीदे। विदेश में रहने वाला व्यक्ति होने के नाते, वह दूसरे तरीके से इस तरह जमीन का अधिग्रहण नहीं कर सकते थे। ईडी ने कहा कि जमीन के इन सौदों में फेमा कानून के प्रावधानों का भी उल्लंघन हुआ है। इस कारण इनको केंद्र सरकार के खाते के लिए जब्त करने का प्रस्ताव किया गया है।
कारण बताओ नोटिस में 288 करोड़ रुपए की राशि के फेमा उल्लंघन का उल्लेख किया गया है। 

मतलब धीरे-धीरे ही सही मोदी सरकार "काम" तो कर रही है... यही तो आशा थी इस सरकार से... 

Tags: desiCNN, ED Notices on Black Money, what is FEMA, CC Thampi

ईमेल