इस्लामिक अत्याचारों (Islamic Terror in India) की एक और विस्मृत दास्तान पेश है. हिन्दू समाज के साथ 1200 वर्षों से मजहब के नाम पर अत्याचार होता आया है।

जैसा कि अब लगभग पूरे देश के लोग जान चुके हैं कि मोबाईल पर ऑनलाइन (Online Games in India) खेला जाने वाला एक खेल है, “ब्ल्यू व्हेल” (Blue Whale Challenge). इस खेल में अक्सर किशोर के युवाओं को बड़ी ख़ूबसूरती से फांसा जाता है, और एक के बाद एक स्टेज पार करने का “टास्क” दिया जाता है, जिसमें कलाई काटने से लेकर ऊँची बिल्डिंग से कूदने जैसे मूर्खतापूर्ण टास्क भी होते हैं.

बद्रीनाथ (Badrinath Dham) और केदारनाथ (Kedarnath Dham) भारतवर्ष के सुदूर उत्तर हिमालय की उपत्यकाओं में अवस्थित प्रसिद्ध श्रद्धा स्थल हैं बद्रीनाथ चार धामों (जगन्नाथपुरी, द्वारका, श्रृंगेरी तथा ज्योतिर्मठ) में से एक ज्योतिर्मठ (जोशीमठ) के रूप में जाना जाता है।

Journey of Srila Prabhupada, ISKCON and Bhagvad Gita 

श्रील प्रभुपाद (Srila Prabhupada) पिछली शताब्दी के उन मुट्ठी भर आध्यात्मिक संतों में से एक हैं, जिनका जीवन और कर्तृत्व आगे आने वाले युगों-युगों तक युवाओं को प्रेरणा देता रहेगा।

राजस्थान के ऐसा राज्य है जिसमे बहुत सी रियासते थी जिनका आजादी के बाद भारत मे विलय हुवा था केवल जोधपुर को छोड़ दिया जाए तो बाकी किसी रियासत के मामले में ज्यादा आपत्ति नही आई थी क्यों?

इसी वर्ष 18 मई 2017 को भारत के तत्कालीन पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे जी का स्वर्गवास हुआ था. अनिल माधव दवे (Anil Madhav Dave) की कर्मभूमि मध्यप्रदेश रही है.

किसी भी सरकार में वित्त, रक्षा, गृह और विदेश मंत्रालय के बाद दो सबसे महत्त्वपूर्ण मंत्रालय होते हैं, मानव संसाधन और सूचना प्रसारण मंत्रालय (Information and Broadcasting Ministry). पिछली सरकारों खासकर वामपंथ समर्थित काँग्रेस सरकारों ने इन दोनों ही मंत्रालयों का जनता को अपने पक्ष में मोड़ने, तथा पाठ्यक्रमों व इतिहास में मनमाने बदलाव करके ब्रेनवॉश करने के लिए बेहतरीन उपयोग किया है.

खाद्य सुरक्षा बिल और गरीबों के लिए चलने वाली सस्ते अनाज की तमाम योजनाओं (Food Security Scheme) के बारे में अक्सर विमर्श होता रहता है. अधिकाँश बार यही निकलकर आया है, कि ऐसी योजनाएँ भ्रष्टाचारी लोगों का अड्डा बनी हुई हैं.

पाठकगण अक्सर यह सोचते होंगे कि भारत में "नव-बौद्धों" को ब्राह्मणों के खिलाफ क्यों भडकाया जा रहा है? साथ ही यह प्रश्न भी उनके मन में उठते होंगे कि आखिर म्यांमार के बौद्ध, इस्लाम के खिलाफ इतने आक्रामक क्यों हो गए, जबकि भारत में बौद्ध धर्मावलंबियों को बरगलाने में इस्लामी प्रचारक और वेटिकन सबसे आगे क्यों रहते हैं?? इन जैसे सवालों का जवाब इस लेख में संक्षिप्त रूप से दिया गया है... आगे पढ़िए.

कणकवली रेलवे स्टेशन से मुम्बई यात्रा करते समय अथवा वहाँ से वापस आते समय स्टेशन की सीढ़ियों के पास श्री मधु दण्डवते (Madhu Dandavate) का जो तैलचित्र लगा हुआ है, मैं सदैव उसे दोनों हाथ जोड़कर नमस्कार करके ही आगे बढ़ता हूँ.

न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें