कोलकाता से 250 किमी दूर बीरभूम जिले में एक क़स्बा है, जिसका नाम है मोरग्राम. आज से बीस-पच्चीस वर्ष पहले यह क़स्बा चारों तरफ हरे-भरे धान के खेतों से महकता था, और इस गाँव में लगभग 280 हिन्दू परिवार रहते थे, जबकि मुस्लिम परिवारों की संख्या केवल 15 थी.

हमने बचपन में अकबर-बीरबल की कई कहानियाँ सूनी-पढी हैं, इन कहानियों में बताया जाता था कि किस प्रकार बीरबल नामक चतुर मंत्री अपने बादशाह अकबर को अपनी चतुराई और बातों से खुश कर देता था.

देश के पहले शिक्षा-मंत्री ''नुरुल-हसन, ने बड़ी चतुराई से भारतीय शिक्षा को सनातन चेतना के खिलाफ एक खतरनाक वेपन की तरह इस्तेमाल किया। शिक्षा जगत मे की गई यह हस्तक्षेप सबसे नया और खतरनाक हथियार के रूप मे सामने आई।

इतिहास में उल्लेख है कि राणा पूंजा भील का जन्म मेरपुर के मुखिया दूदा होलंकी के परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम केहरी बाई था, उनके पिता का देहांत होने के पश्चात 15 वर्ष की अल्पायु में उन्हें मेरपुर का मुखिया बना दिया गया।

अखिलेश, औरंगजेब और फिदायीन...

Written by मंगलवार, 07 फरवरी 2017 13:18

जो उत्तर प्रदेश की राजनीति में अखिलेश ने मुलायम का किया है उसके बाद से अक्सर उन्हें औरंगज़ेब बुलाया जाने लगा है| शक्तिशाली मुग़ल शहंशाहों में औरंगजेब आखरी थे, उनके बाद के 12-13 मुग़ल शासक योग्य नहीं थे और अंत में बहादुर शाह जफ़र को अंग्रेजों ने दिल्ली की गद्दी से उतार फेंका था|

या अल्लाह... तुम तो हमें अकेले में चीखने दो और जोर जोर से रोने दो। कहीं एकान्त में हमारा दम ही न निकल जाए। बुरके की घुटन में लोक जीवन की चारदीवारी में हमें इतना जी भर के रो लेने दो कि हमारी आखों में एक भी आंसू बाकी न बचे।

किसी भी राष्ट्र,समाज में संस्कृति की मूल संवाहक-संरक्षक "स्त्रियां और बालिकाएं, होती हैं, वह संस्कृति को अगली पीढ़ी को हस्तांतरित करती हैं। स्त्रियाँ भ्रष्ट, संस्कृति नष्ट, फिर तो राष्ट्र स्वाहा. आंतरिक कमजोर दुश्मन इसलिए स्त्रियों-बच्चो पर मौन और गोपनीय आक्रमण करता है। सदैव सजग रहना ही बचाव है. उनका कोमल मन घुसपैठ कर विजय पाने का आसान रास्ता है… -- "कार्लाइल. 

अंग्रेजी नव वर्ष के आगमन के बाद पूरा विश्व नव वर्ष की खुशियां मना रहा था। किंतु कड़ाके की ठंड के बाद भी कश्मीर में गर्मी अचानक बढ़ गई थीI 4 जनवरी 1990 कश्मीर के एक स्थानीय "उर्दू समाचार पत्र आफताब" में कश्मीर के सभी अल्पसंख्यक हिंदुओं एवं सिक्खों को अपना सामान पैक कर कश्मीर छोड़ने के लिए कहा गया था।  पढ़िए 20वीं शताब्दी के सबसे बड़े मुस्लिम अत्याचार अर्थात कश्मीर के बारे में...

अभी कल ही 3700 करोड़ की दैत्याकार ठगी का समाचार पढ़ा. शीर्षक पढ़कर तो लगा कोई बहुत ही धुरन्धर खिलाड़ी रहा होगा जिसने यह "चमत्कार" कर डाला, अपने आप में एक रिकॉर्ड है.

भारतीय राजनीति के सियासी महाभारत में उत्तर प्रदेश का चुनाव एक महत्वपूर्ण पड़ाव माना जा रहा है। यद्यपि मोदी सरकार के आने के बाद छात्रसंघ चुनावों से लेकर निगम/ पंचायत चुनावों तक भी मोदी लहर को पढ़ने की कोशिश राजनितिक विश्लेषक करते रहे हैं, परंतु वास्तविकता में उत्तर प्रदेश चुनाव को मोदी समेत पूरी भाजपा भी बेहद गंभीरता से ले रही है,