विगत दो दशकों में जब से टीवी जैसे माध्यम ने घरों के ड्राईंग रूमों और बेडरूमों में लगभग कब्ज़ा जमा लिया था, उसी दौर में बहुत से लोगों ने सोचा था कि शायद अब रेडियो के दिन लद गए. लेकिन वे कितने गलत थे, यह बात इसी से सिद्ध होती है, कि रेडियो स्टेशनों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है.

भारतवासियों ने आतंकी अफज़ल गूरू के समर्थन में नारे लगाने, उसे बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति के सामने दया याचिका लगाने वालों के “बौद्धिक गिरोह” देखे हैं. इसी प्रकार याकूब को फाँसी से बचाने के लिए यही गिरोह आधी रात को कोर्ट खुलवाने में भी पीछे नहीं रहा है.

अधिकतर लोगों ने कौटिल्य अर्थात चाणक्य के "अर्थशास्त्र" के बारे में केवल सुना ही सुना है, पढ़ा शायद ही किसी ने हो. इस संक्षिप्त लेख में चाणक्य द्वारा लिखे गए सूत्रों, नियमों एवं अनुपालनों को समझाने का प्रयास किया गया है, ताकि दिमाग पर अधिक बोझ भी न पड़े और पूरा कौटिल्य अर्थशास्त्र सरलता से समझ में भी आ जाए.

हाल ही में रिजर्व बैंक ने घोषणा की है कि वह 200 रूपए के नए नोट छापना आरम्भ कर चुका है और इन नोटों को जल्द ही बाज़ार में लाया जाएगा. अर्थात परदे के पीछे नरेंद्र मोदी की नोटबंदी के भाग-२ की पटकथा पूरी लिखी जा चुकी है.

भारतीय संस्कृति को नष्ट-भ्रष्ट करके भूमि पुत्र बहुसंख्यक हिंदुओं की आस्थाओं पर निरंतर प्रहार करते रहने की मुगलकालीन परंपरा अभी जीवित है। आज केंद्र में राष्ट्रवादी भाजपानीत राजग सरकार के सशक्त शासन में भी देशद्रोहियों व भारतविरोधियों के षड्यंत्रो पर अंकुश नहीं लग पा रहा है।

हम सर्वप्रथम गणतंत्र और राजतंत्र में प्रचलित आय के और उसके स्वरुप की चर्चा करेंगे। आय न सिर्फ व्यक्ति संस्था के लिए अनिवार्य है बल्कि राजा, सामन्त के लिए भी उतना ही आवश्यक है। प्राचीन काल में व्यक्ति की आवश्यकताएँ पूरी हो जाती थीं लेकिन राज्य के लिए आय एक अभिन्न अंग था।

तीन बार इज़राईल की यात्रा कर चुके प्रशांत पोळ द्वारा उनके अनुभव एवं इज़राईल तथा यहूदियों के बारे में बयान किए गए कुछ तथ्य और अकाट्य बातें.. - मैं तीन बार इजराइल गया हूँ। तीनों बार अलग अलग रास्तों से। पहली बार लंदन से गया था। दूसरी बार पेरिस से। लेकिन तीसरी बार मुझे जाने का अवसर मिला, पडौसी राष्ट्र जॉर्डन से।

अगली बार जब भी आप भगवान् व्यंकटेश के दर्शनों के लिए तिरुपति जाएँगे तो आपकी जेब थोड़ी अधिक ढीली हो जाएगी. जी हाँ!!! अरुण “जेबलूटली” ने बीस लाख रूपए से ऊपर की आय वाले सभी मंदिरों पर GST लगा दिया है. इसलिए तिरुपति में हिन्दुओं के इस सबसे अमीर मंदिर पर तत्काल सौ करोड़ रूपए का टैक्स थोप दिया गया है.

भीड़ द्वारा हत्या जैसे “नकली विमर्श” गढ़कर विश्व पटल पर भारत को बदनाम करने वाले तथाकथित बुद्धिजीवियों के लिए कर्नाटक से एक खबर है.

हमने अक्सर देखा-सुना और पढ़ा है कि आए दिन हमारे माननीय न्यायाधीश महोदय, किसी प्रशासनिक अधिकारी को लताड़ते रहते हैं कि उसने अपने कर्त्तव्य का पालन सही तरीके से नहीं किया. न्यायाधीश महोदय की भावनाबेन भी गाहे-बगाहे आहत होती रहती है और वे जब-तब न्यायालय की मानहानि (Contempt of Court) के मामलों में जब चाहे जहाँ चाहे किसी को भी रगड़ते रहते हैं.