top left img

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने कहा है कि मुस्लिम महिलाओं की सैकड़ों याचिकाओं को देखते हुए जल्दी ही तीन तलाक, हलाला, शरीयत कोर्ट और बहुविवाह जैसे मामलों के संवैधानिक पहलुओं को देखने और इन पर दिशानिर्देश जारी करने के लिए पाँच जजों की एक संवैधानिक पीठ गठित की जाएगी.

उड़ीसा के स्थानीय निकाय चुनावों के परिणामों ने नवीन पटनायक की पार्टी बीजू जनता दल के साथ-साथ काँग्रेस की नींद भी उड़ा दी है. हाल ही में सम्पन्न स्थानीय चुनावों के दो चरणों में 188 जिला परिषदों में से भाजपा ने 71 सीटें जीत ली हैं.

पिछले १० या १५ सालों से “विकास” नाम का शब्द बार बार सुनने में आता है... हर किसी को विकसित होना है. चाहे लोग हो, समाज हो या देश. यह विकास क्या होता है ? यह कभी पता नहीं चल पाया,

3600 करोड़ एक मूर्ति के लिए?? 600 मिलियन डॉलर? देश में इतनी भुखमरी है, सड़कें टूटी हुई हैं, कुपोषण है, ठंढ में लोग मर रहे हैं, किसान आत्महत्या करते हैं, ग़रीबी है, बाढ़ है, सूखा है… फिर ये मूर्ति कितनी ज़रूरी है? सरकार की प्राथमिकताएँ, यानि प्रायोरिटीज़, विचित्र हैं।

आपने मेरा लेख पढ़ा होगा (यहाँ पढ़ें) जिसमें मैंने बताया है कि “सेकुलर रेप” और “साम्प्रदायिक रेप” के बीच क्या अंतर होता है. उसी को दृष्टिगत रखते हुए मध्यप्रदेश के रानापुर में एक “सफ़ेद शांतिदूत” यानी पादरी हेनोप अलेग्जेंडर ने एक सैंतीस वर्षीय आदिवासी महिला के साथ बलात्कार कर डाला है.

22-23 सितम्बर 1918 को हाईफा का युद्ध मानव इतिहास के सबसे बड़े युद्धों में से एक है. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जोधपुर और मैसूर के महाराजाओं द्वारा भेजे गए भारतीय सैनिकों ने बड़ी संख्या में इजराईल (पश्चिम एशिया) में अपने जीवन का बलिदान दिया. भारतीय वीरों ने तुर्की, जर्मनी और ऑस्ट्रिया की संयुक्त सेनाओं को पराजित किया था

होली के डांडे गढ़ चुके हैं... महीने भर बाद इंदौर में छोटी-बड़ी 20 हजार से ज्यादा होलियां जलेंगी। इस दिन यदि लकड़ियों के बजाय गोबर के कंडों की होली जलाई जाए तो शहर की 150 गौशालाओं में पल रही लगभग 50 हजार गाएं अपना सालभर का खर्च खुद निकाल लेंगी।

आंध्रप्रदेश सरकार ने फैसला किया है कि वह रोहित वेमुला के “दलित” होने संबंधी नकली सर्टिफिकेट को रद्द करने जा रही है, तथा अब रोहित वेमुला को “OBC” का सही सर्टिफिकेट दिया जाएगा.

दारुल उलूम देवबंद और तबलीगी जमात के बीच का झगड़ा गंभीर स्वरूप लेता जा रहा है. जमात से सम्बन्धित मौलाना अबू अरशद कान्धलवी ने दारुल उलूम देवबंद पर करोड़ों रूपए के घोटाले का आरोप लगाया है.

अंततः सरकार ने एक और कठोर कदम उठाने का फैसला कर ही लिया है. जैसा कि सभी को ज्ञात है भारत में विश्वविद्यालयों के लिए एक नियामक संस्था है, जिसका नाम है UGC, अर्थात विश्वविद्यालय अनुदान आयोग. इसका बजट दस हजार करोड़ रूपए से अधिक है.

न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें