मध्यप्रदेश के बैतूल से सांसद ज्योति धुर्वे का जाति प्रमाणपत्र जाँच के बाद फर्जी पाया गया है. उल्लेखनीय है कि आदिवासियों की बहुलता के कारण बैतूल लोकसभा “अनुसूचित जनजाति” (ST) के लिए आरक्षित है.

आधुनिक और तथाकथित प्रगतिशील विद्वानों का सबसे प्रमुख शगल है "स्त्री विमर्श"। विषय कोई-सा भी हो, स्त्रियों का मुद्दा उसमें जोड़ ही दिया जाता है। राजनीति से लेकर सेना तक और शिक्षा से लेकर व्यवसाय तक स्त्रियों को प्रमुखता देने, उनके प्रतिनिधित्व को बढ़ाने की बात की जाती है।

जैसा कि सभी जानते हैं, भारत के मीडियाई क्षेत्र में कई-कई ऐसे पत्रकार और चैनल हैं, जो नरेंद्र मोदी से साफ-साफ़ और खुल्लमखुल्ला नफरत करते हैं. सन 2002 के बाद से भारत के मीडिया ने जिस एक व्यक्ति को सर्वाधिक निशाना बनाया, वे नरेंद्र मोदी ही हैं.

भारत की सेकुलर उर्वर भूमि पर गाहे-बगाहे कई कुख्यात हस्तियों ने जन्म लिया है और अपने वचनों-कर्मों से “हिन्दुस्थान” को चोट पहुँचाने का पूरा प्रयास किया है. पिछले साठ-पैंसठ वर्षों में इन कुख्यात हस्तियों को कांग्रेस का खुला वरदहस्त प्राप्त रहा है, क्योंकि इनमें से अधिकाँश मुस्लिम वोट बैंक से जुड़े रहे हैं.

“अपना घर” हर किसी का एक सपना होता है. सामान्य व्यक्ति अपनी जीवन भर की जमापूँजी से एक मकान और बच्चों का विवाह करने के सपने देखता है. लेकिन जब उसकी इस जमापूँजी और सपने को किसी बिल्डर द्वारा तगड़ी चोट पहुँचा दी जाती है तब वह नैराश्य अवस्था में चला जाता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ दिन पहले सूरत में ऐलान किया, कि डॉक्टर अपनी पर्ची पर केवल जेनरिक दवाओं का नाम लिखेंगे. इस ऐलान के साथ ही ज्यादातर लोग ये मान बैठे कि जेनरिक दवाएं मतलब सस्ती दवाएं... लेकिन ऐसा बिलकुल नहीं है.

गत गुरूवार को फ्रांस से पेरिस में करीम चुर्फी नामक एक मुस्लिम ने अचानक अपनी कार से निकलकर एक पुलिस अधिकारी को गोली से उड़ा दिया और दो अन्य पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया.

हिंदू मंदिर सदा से ही समाज तथा भारतीय सभ्यता के केंद्रबिंदु के रूप में स्थापित रहे हैं। मंदिर आध्यात्मिक तथा अन्य धार्मिक गतिविधियों के साथ-साथ विविध प्रकार के समाजोपयोगी गतिविधियों के भी प्रमुख केंद्र रहे हैं।

आज की तारीख में मूल समस्या यह है कि, सावरकर का नाम लेते ही "राष्ट्रवाद विरोधियों तथा ब्राह्मण द्वेषियों" के पेट में मरोड़ उठने लगते हैं... हाल ही थाणे में सावरकर जी पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शामिल हुए.

छत्तीसगढ़ में हुए भीषण नक्सली हमले में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के छब्बीस जवान हुतात्मा हुए और आठ गंभीर रूप से घायल हुए हैं. यह हमला एक सड़क निर्माण को सुरक्षा देने वाली CRPF कंपनी पर हुआ, जिसमें नक्सलियों ने ग्रामीणों तथा महिलाओं को “मानव ढाल” बना रखा था.

न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें