कम्युनिस्टों से लेकर राष्ट्रवादियों तक सभी एक स्वर से भारत की हजार वर्ष की गुलामी की बात सरलता से कह जाते हैं। बारहवीं शताब्दी में मोहम्मद गोरी के दिल्ली पर कब्जा करने से लेकर वर्ष 1947 में अंग्रेजों के जाने तक के काल को सभी सहज भाव से भारत की गुलामी का काल मान लेते हैं।

Published in आलेख

ज़ाहिर है कि शीर्षक देखकर आप थोडा चौंके होंगे. क्योंकि अब देश GST लागू करने के अंतिम चरण में पहुँच चुका है, तथा अंतिम तैयारियाँ चल रही हैं. लेकिन यदि डॉक्टर सुब्रह्मण्यम स्वामी की मानें तो व्यापारियों और उद्योगपतियों का GST संबंधी तमाम डाटा और जानकारियों की न सिर्फ सुरक्षा खतरे में है.

Published in आलेख

सहारनपुर में दलितों और ठाकुर राजपूतों का विवाद का समाचार मिल रहा है। कभी दलित कहते है कि हम इस्लाम स्वीकार कर लेंगे, कभी ठाकुर कहते है कि हम इस्लाम स्वीकार कर लेंगे। इस्लाम स्वीकार करने से जातिवाद की समस्या समाप्त हो जाती तब तो दुनिया के सभी इस्लामिक देश जन्नत के समान होते।

Published in आलेख

क्या आपने किसी इलाके में रियल एस्टेट, यानि जमीन, फ्लैट के दाम गिरते हुए देखे हैं? अगर नहीं देखे तो एक बार दिल्ली के विकासपुरी और द्वारका सेक्टर 3 जैसी जगहों पर पिछले साल की कीमत और अभी की कीमत देखिये|

Published in आलेख

बीते दिनों ब्रिटेन के मैनचेस्टर शहर में एक म्यूज़िक कंसर्ट में आतंकी हमला हुआ, जिसमें कई लोग मारे गये। जो हुआ, वह यकीनन दुःखद है। हालाँकि दूसरा पहलू देखें तो इस घटना में आश्चर्य कैसा?

Published in आलेख

CIA की एक रिपोर्ट में स्वीकार किया गया है कि चीन ने 2010 से लेकर अभी तक अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के दर्जनों जासूसों को या तो मार दिया है, अथवा बंदी बना लिया है.

Published in आलेख

आपने अक्सर पाया होगा कि देश के “कथित नेशनल मीडिया” परिदृश्य से उड़ीसा अक्सर गायब रहता है. जैसी ख़बरें और चटपटे वाद-विवाद राष्ट्रीय फलक पर बिहार, उत्तरप्रदेश अथवा दिल्ली या कश्मीर के बारे में देखे-सुने और पढ़े जाते हैं, उसके मुकाबले में उड़ीसा की घटनाएँ अथवा उसके बारे में जानकारी बहुत ही कम प्रसारित होती है, उड़ीसा लगभग पृष्ठभूमि में ही रहता है.

Published in आलेख

19 मई को नई दिल्ली स्थित पत्रकारिता के सर्वोच्च संस्थान आईआईएमसी (IIMC) में मीडिया स्कैन पत्रिका द्वारा "मीडिया और मिथ" इस विषय पर एक सेमिनार का आयोजन करवाया गया| इस कार्यक्रम में दो नई शुरुआत हुई - कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन की बजाए हवन से हुआ, तथा दूसरा महत्वपूर्ण बदलाव अभिनंदन को लेकर था - आने वाले मेहमानों का अभिनंदन ‘बुके’ की जगह ‘बुक’ देकर किया गया| 

Published in आलेख

मेरठ नगर निगम में कुछ मुस्लिम पार्षदों ने सत्र के दौरान वन्दे मातरम के गान के समय राष्ट्रीय गीत का बहिष्कार यह कहकर कर दिया गया कि वन्दे मातरम का गान करना इस्लाम की मान्यताओं के खिलाफ है और वे करोड़ो मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं कर सकते।

Published in आलेख

धर्म शब्द को लेकर संसार में बहुत भ्रांतियां फैल रही है। यूँ कहिये संसार में धर्म की सत्य परिभाषा को न समझकर मत-मतान्तर की संकीर्ण सोच को धर्म के रूप में चित्रित किया जा रहा है। विश्व में मुख्य रूप से ईसाई, इस्लाम और हिन्दू धर्म प्रचलित है।

Published in आलेख
पृष्ठ 1 का 23
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें