देश की मुख्य धरती से बहुत दूर स्थित अंडमान द्वीप पर स्थित सेल्युलर जेल (Cellular Jail of Andaman) बहुत कुख्यात थी. हालाँकि सावरकर बंधुओं की वजह से अब यह जेल एक “तीर्थस्थल” बन चुकी है, लेकिन एक समय ऐसा भी था जब इस जेल का नाम सुनकर ही कैदियों की तबियत खराब हो जाया करती थी.

Published in आलेख

एक कल्पना कीजिए... तीस वर्ष का पति जेल की सलाखों के भीतर खड़ा है और बाहर उसकी वह युवा पत्नी खड़ी है, जिसका बच्चा हाल ही में मृत हुआ है...

Published in आलेख

आज की तारीख में मूल समस्या यह है कि, सावरकर का नाम लेते ही "राष्ट्रवाद विरोधियों तथा ब्राह्मण द्वेषियों" के पेट में मरोड़ उठने लगते हैं... हाल ही थाणे में सावरकर जी पर आयोजित एक कार्यक्रम में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शामिल हुए.

Published in आलेख

इंदिरा गांधी ने इस व्यक्ति को देशभक्ति और साहस का पर्याय बताया था, जबकि सी राजगोपालाचारी ने उन्हें शक्ति का प्रतीक। भारत में साम्यवाद के जनक रहे एम एन रॉय उन्हें अपनी प्रेरणा एवं निडर नेता के रूप में मानते थे, तो वहीं एक और साम्यवादी एमपी हिरेन मुखर्जी ने उनके निधन पर लोकसभा में शोकप्रस्ताव रखा.

Published in आलेख
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें