भारत माता की कोख से एक से बढ़कर एक महान वीर ही नहीं बल्कि कई वीरांगनाओं ने भी जन्म लिया है जिन्होंने भारत माता की रक्षा के लिए अपने सर्वस्व सुखों का त्याग कर अपनी मातृभूमि कि पूरे मनोयोग के साथ रक्षा की। ऐसी महान वीरांगनाओं की श्रेणी में नाम आता है। रानी नायिकी देवी सोलंकी, यह एक ऐसी वीरांगना थी जिससे मोहम्मद गोरी थर्राता था और इस वीरांगना ने युद्ध में गोरी को रणभूमि छोड़ भागने को मजबूर कर दिया था। 

Published in आलेख

बहुत कम लोग जानते होंगे कि साहित्य सम्राट मुंशी प्रेमचंद ने "जेहाद" नाम की एक कहानी भी लिखी थी. जिसे हमारे शेखुलर प्रकाशकों ने पुस्तकों से लगभग गायब ही कर दिया.100 वर्ष पहले लिखी गई मुंशी प्रेमचंद की कहानी प्रस्तुत है। कहानी का नाम है "जेहाद".

Published in आलेख

बाहर से आए इस्लामिक और तुर्क लुटेरों (Islamic Invaders in India) ने भारत के सोमनाथ मंदिर जैसे हजारों मंदिरों को लूटा और ध्वस्त किया है, यह इतिहास कोई नई बात नहीं है.

Published in आलेख

भारतवर्ष अब शौचालय क्रान्ति (Swachchh Bharat Abhiyan) की ओर नए कदम बढा चुका है. शौचालय हर खास-ओ-आम व्यक्ति के जीवन का अभिन्न और अहम हिस्सा बन चुका है.

Published in आलेख

जिस प्रकार तुर्की स्थित खलीफाओं के अत्याचारों को नकारने के लिए एक पूरी व्यवस्था को जन्म एवं समर्थन दिया गया, जिसमें गाँधी समर्थित खिलाफत आन्दोलन शामिल है, जबकि यह कोई खिलाफत आन्दोलन (Khilafat Movement) नहीं था, यह तुर्की के इस्लामी खलीफा को बचाने वहां लोकतंत्र की स्थापना के खिलाफ आन्दोलन था.

Published in आलेख

कर्णाटक से केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े (Anant Hegde) द्वारा टीपू सुल्तान (Tipu Sultan) को अत्याचारी और बर्बर शासक बताया गया। इतिहास को निष्पक्ष होकर देखे तो पता चलता है कि टीपू सुल्तान का असली चेहरा क्या था।

Published in आलेख