जैसे ही हम इशरत जहाँ (Ishrat Jahan) की बात करते हैं, वैसे ही हम सबके दिमाग में एक दूसरी ही इशरत की तस्वीर आ जाती है. मुम्बई के मुम्ब्रा इलाके की एक छोटी सी मासूम चेहरे वाली लेकिन “शातिर” इशरत (Ishrat Jahan Encounter), जो गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री की हत्या करने के लिए गुजरात जा रही थी, और रस्ते में ही एन्काउंटर का शिकार हो गयी. उस इशरत को भारत की सेकुलर, अवार्ड वापसी तथा लाल गैंग ने हाथोंहाथ लिया था, उसे अपने अपने राज्यों की बेटी बनाने के लिए होड़ लग गयी थी और बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री ने तो उसे अपने राज्य की बेटी बना ही दिया था. वह एक इशरत थी.

Published in आलेख