मैं आज एक गंभीर पत्र अपने देशवासी मुसलमानों को विशेष रूप से और विश्व भर के मुसलमानों को सामान्य रूप से लिख रहा हूँ. संभव है मैं जिन मुसलमान बंधुओं से बात करना चाहता हूँ उन तक मेरा ये पत्र सीधे न पहुंचे अतः आप सभी से निवेदन करता हूँ कि कृपया मेरे पत्र या इसके आशय को मुस्लिम मित्रों तक पहुंचाइये.

Published in आलेख

हाल ही में एक फोरम पर किसी युवा मित्र ने पूछा कि कश्मीर में मारे जा रहे आतंकियों का उपनाम "भट", "बट", "वानी", "गुरू" किस तरह से है? इसी प्रकार देश के कई भागों में मुस्लिम गुर्जर, मुस्लिम जाट तथा "पटेल" उपनाम वाले मुसलमान कैसे पाए जाते हैं? असल में उसे यह जानकारी नहीं थी कि 99 प्रतिशत "भारतीय मुसलमानों" के पूर्वज हिन्दू थे।

Published in आलेख

इंटरनेट के कारण हिंदुस्तान में Cognitive Dissonance का सब से बड़ा मारा कोई है तो युवा मुसलमान है. वह जानता है कि अब सब जानते हैं कि जब उसके पुरखों ने इस्लाम कुबूल किया होगा, वह कोई बहुत गौरवशाली घटना नहीं होगी. वह जिनसे अपना संबंध बता रहा है, उनकी नजर में तो उसकी औकात धूल बराबर भी नहीं है यह भी सब जानते हैं. समाज के तथाकथित रहनुमाओं ने समाज को मजहब के नाम पर पिछड़ा रखा है, यह भी उसे पता है.

Published in आलेख