हाल ही में ताजमहल को लेकर खामख्वाह एक विवाद पैदा किया गया कि योगी सरकार ने इसे उत्तरप्रदेश के दर्शनीय स्थलों की सूची से बाहर क्यों कर दिया. वास्तव में प्राचीन भारत की वास्तुकला को लेकर फर्जी इतिहासकारों ने भारतीयों के मनोमस्तिष्क में इतने नकारात्मक भाव भर दिए हैं कि उन्हें विदेशी आक्रान्ताओं द्वारा बनाई गयी वास्तुकलाओं और लाशों पर बने मज़ार के ऐसे भवनों में अच्छाई दिखाई देती है, जिसके निर्माण के बाद कारीगरों के हाथ काट दिए गए हों.

Published in आलेख
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें