यदि हम विश्व के सभी समाजों का अध्ययन करें तो पाएंगे कि हिंदू समाज दुनिया का सबसे अधिक समरस, संगठित और सभ्य समाज है। परंतु दुर्भाग्यवश आज इसे सर्वाधिक भेदभावपूर्ण, बिखरा हुआ और संकीर्ण समाज के रूप में चित्रित किया जाता है।

Published in आलेख

नेहरू कभी नहीं चाहते थे कि डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद राष्ट्रपति बनें... पता नहीं क्यों नेहरू और प्रसाद के सम्बन्ध शुरू से ही अच्छे नहीं थे. शहरी छाप वाले नेहरू ने बिहार के सीधे-सादे गँवई राजेन्द्र प्रसाद को कभी भी उचित सम्मान नहीं दिया... आगे पढ़ें...

Published in आलेख