मीडिया में गुजरात के ऊना की घटना पर अपने आपको बुद्धिजीवी कहने वाली जमात हिन्दुओं को जातिवादी, अत्याचारी, मनुवादी, ब्राह्मणवादी न जाने क्या क्या कह चिल्लाई।

Published in आलेख

भीड़ द्वारा हत्या जैसे “नकली विमर्श” गढ़कर विश्व पटल पर भारत को बदनाम करने वाले तथाकथित बुद्धिजीवियों के लिए कर्नाटक से एक खबर है.

Published in आलेख

दलित-मुस्लिम एकता कितना खोखला नारा है, इस बारे में हम पिछले भाग में संत रविदास और संत कबीर के कुछ उद्धरणों द्वारा जान चुके हैं... पहले भाग को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

Published in आलेख