अक्सर आपने “बुद्धिपिशाचों” को ये कहते सुना-पढ़ा होगा, कि हिंदुओं में दलितों की स्थिति बहुत खराब है और उनके साथ होने वाले भेदभाव एवं अत्याचारों के कारण वे चर्च के प्रलोभनों (Conversion in Dalits) में आ जाते हैं और धर्म परिवर्तन कर लेते हैं.

Published in आलेख

हाल ही में एक प्रसिद्ध पत्रिका “आउटलुक” ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति केआर नारायणन अपने अंतिम समय से पहले हिन्दू दलित नहीं रह गए थे, बल्कि वे “कन्वर्टेड ईसाई” बन चुके थे.

Published in आलेख

पिछले भाग में हमने देखा कि किस तरह “इस्लाम में जातिवाद नहीं है” का झूठ बोलकर कई मुस्लिम जातियाँ, हिन्दुओं के हिस्से का आरक्षण चट कर रही हैं. सरकारें भी वोट बैंक के चक्कर में हिन्दुओं को एक “अर्धसत्य” बोल-बोलकर बरगलाती रहती हैं कि “मुसलमानों को धार्मिक आधार पर आरक्षण नहीं दिया जाएगा”.

Published in आलेख