आपने मेरा लेख पढ़ा होगा (यहाँ पढ़ें) जिसमें मैंने बताया है कि “सेकुलर रेप” और “साम्प्रदायिक रेप” के बीच क्या अंतर होता है. उसी को दृष्टिगत रखते हुए मध्यप्रदेश के रानापुर में एक “सफ़ेद शांतिदूत” यानी पादरी हेनोप अलेग्जेंडर ने एक सैंतीस वर्षीय आदिवासी महिला के साथ बलात्कार कर डाला है.

Published in आलेख

विकलांग करके गवाने की भयावह, घृणित परंपरा ! ये जो विकलांग करवा कर गाना गवाने की परंपरा है, वो ईसाई "रिलिजन" से आई है। आज जैसा आप बच्चों के जन्म, शादी पर, गाने वाले हिजड़ों को देखते हैं, वैसा कुछ होने का जिक्र भी भारतीय ग्रंथों में नहीं आता... पूरा इतिहास यहाँ पढ़िए...

Published in आलेख