मंगलवार को “गौरी लंकेश पत्रिका” नामक साप्ताहिक की संपादक, सरेआम वामपंथी विचारधारा का समर्थन करने वाली, फिर भी निष्पक्ष(?) कही जाने वाली तथा नक्सलवादियों की खुलेआम समर्थक रहीं गौरी लंकेश की बैंगलोर में उनके घर के बाहर गोलियाँ मारकर हत्या कर दी गई.

Published in आलेख
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें