दक्षिण भारत के पेरियार छाप संगठन : सिर्फ चर्च के मोहरे

Written by सोमवार, 25 दिसम्बर 2017 12:00

पहले यह खबर पढ़िए उसके बाद चर्चा को आगे बढ़ाते हैं. खबर ये है कि तमिलनाडु के कांचीपुरम रेलवे स्टेशन (Kanchipuram Railway Station) पर लगभग पच्चीस युवाओं ने हमला बोला, और मंदिरों के प्रसिद्ध इस शहर के इस रेलवे स्टेशन पर लगी हुई आदि शंकराचार्य की मूर्ती, रामानुज की मूर्ति और स्टेशन पर बनी हुई कांची कामकोटि मंदिर की प्रतिकृति को तोड़फोड़ दिया.

चूंकि रेलवे पुलिस अधिक संख्या में नहीं थी, इसलिए उत्पात करने वाले युवक वहाँ से आराम से निकल गए. पुलिस की जाँच और वीडियो फुटेज के अनुसार ये लोग VCK Organization नामक एक द्रविड़ पेरियार संगठन के सदस्य थे और अगले ही दिन सोशल मीडिया पर उन्होंने इस काण्ड की जिम्मेदारी स्वीकार करते हुए पोस्ट किया कि, “...हम सार्वजनिक स्थानों पर बने हिन्दू धर्म के सभी प्रतीकों को नष्ट कर देंगे, और धीरे-धीरे इस हिंदुत्व को भारत से बाहर कर देंगे...”. यह धमकी तमिल भाषा में लिखी गयी है., पुलिस मामले की जाँच कर रही है. 

kanchipuram

अब आगे पढ़िए...

हमारे घर के सामने एक ईसाई परिवार रहता था. क्रिसमस के दिन उनके यहाँ दक्षिण भारत से कुछ मेहमान आए. उन दिनों हमारे इलाके में पानी की समस्या चल रही थी. पानी के लिए बोरिंग का ही सहारा था. ऐसे ही दिन जब पानी भरने के लिए बोरिंग पर पहुँचे तो वहां उस परिवार में आया हुआ दस-बारह वर्षीय बच्चा भी खड़ा था. पानी भरते-भरते उस मेहमान बच्चे ने सहज रूप से कहा कि कल चर्च में हमारे फादर (पादरी) ने बताया है कि जल्दी ही इस संसार में अपना शासन होगा, यहाँ रहने वाले सभी लोग ईसाई होंगे, यह मुझे दिखाई दे रहा है. उस परमपिता यीशु ने मुझे बताया है. फिर कोई समस्या नहीं रहेगी. (Church Planting Programme)

वास्तव में उस समय मुझे हिंदुत्व वगैरा के बारे में अधिक जानकारी नहीं थी. अपने धर्म के प्रति प्रेम तो था, लेकिन मैं अधिक धार्मिक नहीं था. इसलिए उस बच्चे का यह वाक्य मुझे चुभ गया, लेकिन पानी भरने की जल्दी में और बच्चा समझकर उससे अधिक बहस अथवा चर्चा वगैरह नहीं की. लेकिन जैसे-जैसे पिछले कुछ वर्षों में मुझे दुनियादारी की समझ आने लगी, वैसे-वैसे मेरे विचारों में सुधार आता गया. धर्मांतरण, ईसाई बनाने के पीछे का उद्देश्य, चर्च की कार्यपद्धति मुझे समझ में आने लगी और मैं अधिकाधिक चौकन्ना होता गया. जानकारी हासिल करने और पढने की आदत के कारण पता चलता गया कि विभिन्न सरकारों ने इस धर्मांतरण की समस्या को बहुत हलके में लिया और उसकी तरफ उपेक्षा का भाव रखा है. जब इस समस्या के बारे में और जानने का प्रयास किया तो उत्तर-पूर्व के राज्यों में पहुँची मिशनरी संस्थाओं, उनके कथित सेवाकार्यों एवं अत्यंत चतुराई से उनके द्वारा किए गए धर्मांतरण आँकड़ों को देखकर मैं दंग रह गया.

वहाँ के बारे में पढने के बाद मुझे पता चला कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सर्वाधिक धर्म परिवर्तन उत्तर-पूर्व के सात राज्यों में ही हुआ है. उसमें से नागालैंड 90%, मिजोरम 88%, मेघालय 84%, मणिपुर 41%, अरुणाचल प्रदेश 40% जबकि तमिलनाडु और झारखंड जैसे राज्यों में भी 8% तक ईसाई जनसँख्या हो चुकी है. अब नागालैंड में तो बाकायदा बोर्ड लगाकर “क्राईस्ट लैंड”, (यीशु का शासन) घोषित किया जाता है, नागालैंड में भारत का क़ानून नहीं चलेगा, ऐसी सरेआम धमकी नागालैंड के कई संगठन देते रहते हैं. भविष्य में चर्च-वेटिकन के अनुकूल स्थिति बनने पर यह सीमावर्ती राज्य हम सरलता से गँवा सकते हैं, इसमें अब कोई शंका नहीं बची है.

कुछ लोग सोच रहे होंगे कि इन सूचनाओं का, पोस्ट में प्रस्तुत चित्र (और समाचार) से क्या सम्बन्ध है?? सीधा सम्बन्ध है. वह यूँ है कि, इस्लाम की भी लगभग यही पद्धति रही है. परन्तु इस्लाम, ईसाईयत के मुकाबले हिंसा में अधिक विश्वास रखता है, इसीलिए उसकी प्रतिकारक विरोधी शक्ति भी पैदा हो ही जाती है. परन्तु चर्च की कार्यपद्धति धूर्तता, लालच देने और व्यापारी बुद्धि के अनुसार है. इनका कार्य “दीमक” की तरह है, जिसमें पता चले बगैर अथवा खतरनाक दिखे बगैर चुपचाप अन्दर ही अन्दर खोखला करने की रणनीति होती है. सरलता से बिक सकने वाले गरीब अथवा निम्न-मध्यम वर्गीय लोगों के माध्यम से धर्मांतरण करने लायक अनुकूल वातावरण तैयार करना इसका सबसे पहला चरण होता है. ईसाईयत के प्रतीकों का व्यापार करके, हिन्दुओं से ही पैसा कमाना और उस पैसे को पुनः धर्मांतरण के कार्य में ही “इन्वेस्ट” करना, यह कार्यपद्धति है.

कुछ मित्र पूछते हैं कि क्रिसमस की शुभकामनाएँ देने से, सांता की टोपी पहनने अथवा क्रिसमस ट्री घर पर लगाने से हम ईसाई थोड़े न बन जाएँगे. वास्तव में यह तर्क प्रभावी और अ-हानिकारक भी लगता है, परन्तु ऐसे प्रगतिशील लोग यह नहीं समझ पाते कि यह तो ईसाईकरण का सबसे पहला चरण है. परन्तु ऐसे कथित बुद्धिजीवियों के दिलोदिमाग में एक “सेक्यूलर कीड़ा” होता है, उस कीड़े का पेट भरने के लिए सांता की टोपी, सांता के कपड़े, क्रिसमस ट्री, उपहार वगैरह के लिए दी गयी रकम, स्कूलों में “वसूली के रूप में” मँगवाई गयी क्रिसमस स्पेशल फीस चुकाना उन्हें कतई नहीं चुभता. ऐसे बुद्धिजीवी इस बारे में कोई सवाल नहीं उठाते कि गुड़ी पड़वा अर्थात हिन्दू नववर्ष के अवसर पर उपरोक्त स्कूल इतना विशाल आयोजन क्यों नहीं करते हैं? चूंकि उनके दिमाग ईसाई प्रपोगंडा का शिकार हो चुके होते हैं, इसलिए वे भी इस “सामूहिक मानसिक अवचेतन” के शिकार बनते हैं और दूसरों को भी बनाते हैं. पोस्ट के मूल चित्र (और समाचार) में भी यही दिया गया है कि “हम सबसे पहले हिन्दू धर्म के प्रतीकों को मिटाएँगे, और नागालैंड जैसा समय आने पर हिन्दू धर्म ही समाप्त कर देंगे”. इस घटना में नाम भले ही पेरियार प्रभावित VCK संगठन का है, लेकिन वास्तव में शोध किया जाए कि इस उत्पात के पीछे का मास्टर माईंड कौन है अथवा इन लोगों को, ऐसे संगठनों को आर्थिक, नैतिक और राजनैतिक बल कौन प्रदान करता है तो चार-पाँच नहीं पूरी दस उंगलियाँ “चर्च” की तरफ उठेंगी. थोड़ी सी खुदाई करने से ही पता चल जाएगा कि ऐसे हिन्दू विरोधी कृत्यों के पीछे कौन लोग हैं.

समस्या यह है कि हिन्दुओं में ना तो स्वधर्म के प्रति अत्यधिक आग्रह होता है और ना ही राजनैतिक रूप से वे जागरूक हैं. इसलिए बड़ी सरलता से हम “दीमकों” पर भरोसा कर लेते हैं, बल्कि “साँपों” पर भी यह भरोसा कर लेते हैं कि यह काटेगा नहीं. पपरन्तु वैसा होता नहीं है, जब इमारत ढहने की नौबत आ जाती है तभी हम जागते हैं लेकिन तब तक समय हाथ से निकल चुका होता है.

साभार :- योगेश देशपाण्डे 

अनुवाद :- सुरेश चिपलूनकर

Read 2645 times Last modified on सोमवार, 25 दिसम्बर 2017 12:30