top left img
desiCNN - Items filtered by date: फरवरी 2007
मंगलवार, 27 फरवरी 2007 14:53

गाय पर निबन्ध (सन २०४०)

 

समय तेजी से बदल रहा है । भारतीय संस्कृति व उससे जुडे़ प्रतीक पार्श्व में चले जा रहे हैं । गोवंश धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है... जगह-जगह गौवंश के वध हेतु (Slaughter Houses) बनते जा रहे हैं... ऐसे में आज से तीस-चालीस साल बाद सन २०४०-२०५० में कक्षा दूसरी-तीसरी के बच्चे को "गाय" पर दस वाक्य लिखने को कहा जाये तो वह क्या लिखेगा...


१. गाय एक जानवर होता है, जो गाँव में कहीं-कहीं पाया जाता है ।
२. गाय शहर में नहीं रह सकती, क्योंकि हमारी कालोनी में घास नहीं है ।
३. गाय दूध भी देती है, लेकिन हम दूध "डेरी" से ही लेते हैं ।
४. अमेरिका में लड़के को "गाय" कहते हैं ।
५. मेरी "ग्रैण्डमा" के पास गाँव में गाय थी, हम यहाँ नहीं रख सकते, "लायसेंस" नहीं है ।
६. गाय के गोबर को हम "शिट" कहते हैं ।
७. गाय के दो सींग होते हैं, जो मारने के काम आते हैं ।
८. गाय का चेहरा मेरे दोस्त की "मॉम" से मिलता है ।
९. पुराने जमाने में गाय को माता कहते थे, पता नहीं क्यों ?
१०. "डैड" कहते हैं कि गाय और जंगल बहुत काम के हैं... लेकिन मैने दोनों नहीं देखे ।

Published in ब्लॉग
मंगलवार, 20 फरवरी 2007 14:54

शाणे बनो.... लेकिन सही जगह पर...

"शाणा", इस शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई, कहाँ से हुई यह तो शोध का विषय हो सकता है, क्योंकि मराठी भाषा में "शहाणा" शब्द बुद्धिमान और चतुर व्यक्ति के लिये उपयोग किया जाता है । लगभग यही भाव हिन्दी में "सयाना" से उधृत होता है और हो सकता है कि यह शब्द भी मराठी भाषा से ही प्रेरित हो । लेकिन इस शब्द का अपभ्रंश होते-होते अब यह "सयाना" से "शाणा" हो गया है । यह शब्द पिछले कुछ समय से ही आम प्रचलन में आया है, लेकिन जब से आया है, चारों तरफ़ छा गया है ।

Published in ब्लॉग
गुरुवार, 15 फरवरी 2007 12:41

कागज़ बचाओ, पर्यावरण बचाओ...

कागज : एक राष्ट्रीय सम्पत्ति

 

सन २००४ के आम चुनाव भारत के लिये बेहद महत्वपूर्ण साबित हुए हैं, राजनीतिक दृष्टिकोण से नहीं बल्कि पर्यावरणीय दृष्टिकोण से, क्योंकि विश्व के इन सबसे बडे चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (Electronic Voting Machines) का देशव्यापी उपयोग किया गया, जिसके कारण लाखों टन कागज की बचत हुई । जाहिर है लाखों टन कागज की बचत अर्थात लाखों पेड़ कटने से बच गये, पर्यावरण (Environment) की नजर से यह एक असाधारण उपलब्धि मानी जा सकती है।

Published in ब्लॉग
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें