CIA की एक रिपोर्ट में स्वीकार किया गया है कि चीन ने 2010 से लेकर अभी तक अमेरिकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के दर्जनों जासूसों को या तो मार दिया है, अथवा बंदी बना लिया है.

Published in आलेख

आपने अक्सर पाया होगा कि देश के “कथित नेशनल मीडिया” परिदृश्य से उड़ीसा अक्सर गायब रहता है. जैसी ख़बरें और चटपटे वाद-विवाद राष्ट्रीय फलक पर बिहार, उत्तरप्रदेश अथवा दिल्ली या कश्मीर के बारे में देखे-सुने और पढ़े जाते हैं, उसके मुकाबले में उड़ीसा की घटनाएँ अथवा उसके बारे में जानकारी बहुत ही कम प्रसारित होती है, उड़ीसा लगभग पृष्ठभूमि में ही रहता है.

Published in आलेख

19 मई को नई दिल्ली स्थित पत्रकारिता के सर्वोच्च संस्थान आईआईएमसी (IIMC) में मीडिया स्कैन पत्रिका द्वारा "मीडिया और मिथ" इस विषय पर एक सेमिनार का आयोजन करवाया गया| इस कार्यक्रम में दो नई शुरुआत हुई - कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलन की बजाए हवन से हुआ, तथा दूसरा महत्वपूर्ण बदलाव अभिनंदन को लेकर था - आने वाले मेहमानों का अभिनंदन ‘बुके’ की जगह ‘बुक’ देकर किया गया| 

Published in आलेख

मेरठ नगर निगम में कुछ मुस्लिम पार्षदों ने सत्र के दौरान वन्दे मातरम के गान के समय राष्ट्रीय गीत का बहिष्कार यह कहकर कर दिया गया कि वन्दे मातरम का गान करना इस्लाम की मान्यताओं के खिलाफ है और वे करोड़ो मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड़ नहीं कर सकते।

Published in आलेख

धर्म शब्द को लेकर संसार में बहुत भ्रांतियां फैल रही है। यूँ कहिये संसार में धर्म की सत्य परिभाषा को न समझकर मत-मतान्तर की संकीर्ण सोच को धर्म के रूप में चित्रित किया जा रहा है। विश्व में मुख्य रूप से ईसाई, इस्लाम और हिन्दू धर्म प्रचलित है।

Published in आलेख

नारी जाति के विषय में वेदों को लेकर अनेक भ्रांतियां हैं। भारतीय समाज में वेदों पर यह दोषारोपण किया जाता हैं की वेदों के कारण नारी जाति को सती प्रथा, बाल विवाह, देवदासी प्रथा, अशिक्षा, समाज में नीचा स्थान, विधवा का अभिशाप, नवजात कन्या की हत्या आदि अत्याचार हुए हैं।

Published in आलेख

मृत्यु एक अटल सत्य है. मृत्यु सभी को आनी है और इसे टाला नहीं जा सकता. सनातन धर्म में “पुनर्जन्म” की अवधारणा है. पुनर्जन्म के सम्बन्ध में कई बार, कई स्थानों पर जीवंत तथ्य एवं सबूत मिले हैं, जिसमें किसी बच्चे ने अपने पिछले जन्म की सभी प्रमुख घटनाओं को बाकायदा चिन्हित और लिपिबद्ध भी किया है.

Published in आलेख

असम ब्रह्मपुत्र नदी और घने जंगलों का सुन्दर प्रदेश चिरकाल से हिन्दू राजाओं द्वारा शासित प्रदेश रहा है। असम में इस्लाम ने सबसे पहली दस्तक बख्तियार खिलजी के रूप में 13 वीं शताब्दी में दी थी।

Published in आलेख

घटनास्थल : दक्षिण मेक्सिको का ओक्साका शहर... पादरी का नाम जोस गार्सिया अटाल्फो...

Published in आलेख

काफी समय से राष्ट्रीय विमर्श से गायब रहे नक्सली सुकमा में लगातार दो हमलों के बाद फिर से चर्चा के केंद्र में हैं। नक्सलवादियों की यही रणनीति भी है कि बीच बीच में इस तरह की क्रूर हिंसात्मक गतिविधियों द्वारा देश को झकझोरते रहें।

Published in आलेख
पृष्ठ 1 का 22
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें