दीपावली के दिन मैंने एक फेसबुक पोस्ट की थी, जिसमें मैंने उस त्यौहार के दौरान अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे, विभिन्न चौराहों पर खड़े पुलिसकर्मियों को दीपावली की बधाई प्रेषित की थी.

Published in आलेख

प्राचीन भारत में ऋषि-मुनियों को जैसा अदभुत ज्ञान था, उसके बारे में जब हम जानते हैं, पढ़ते हैं तो अचंभित रह जाते हैं. रसायन और रंग विज्ञान ने भले ही आजकल इतनी उन्नति कर ली हो, परन्तु आज से 2000 वर्ष पहले भूर्ज-पत्रों पर लिखे गए "अग्र-भागवत" का यह रहस्य आज भी अनसुलझा ही है.

Published in आलेख

संजय लीला भंसाली की फ़िल्म पदमावती के कारण आज अल्लाउद्दीन खिलजी पुनः चर्चित हो चुका है, जो मध्यकाल के दुर्दांत शासकों में से एक था.

Published in आलेख

माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रकाश के त्योहार दिवाली पर आतिशबाजी पर रोक लगाने के साथ ही देश में आतिशबाजी की परम्परा तथा चलन पर एक बहस छिड़ गई है. पटाखों (आतिशबाजी) के चलन को नकारने वाले मुख्य रूप से दो तर्क दे रहें हैं -

Published in आलेख

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि हरिलाल गाँधी द्वारा इस्लाम कबूलने के बाद महात्मा गाँधी किस तरह बिलबिला गए थे, और उन्होंने लंबा सा पत्र सार्वजनिक रूप से लिख मारा. (पिछला भाग पढने के लिए यहाँ क्लिक करें)

Published in आलेख

“महात्मा”(??) गाँधी के मुस्लिम प्रेम के बारे में बाकायदा तथ्यात्मक रूप से एवं विभिन्न लेखकों की पुस्तकों के सन्दर्भ देकर पहले काफी कुछ लिखा जा चुका है. गाँधी द्वारा गाहे-बगाहे हिंदुओं को ज्ञान बाँटने के तमाम पहलू इतिहास में दर्ज हैं, साथ ही तुर्की के खलीफा के समर्थन में सुदूर भारत में चल रहे मुस्लिमों के आंदोलन, जिसका नाम हिंदुओं को मूर्ख बनाने के लिए “खिलाफत आंदोलन” रखा गया था, के प्रति गाँधी का समर्थन भी जगज़ाहिर है.

Published in आलेख

हाल ही में ताजमहल को लेकर खामख्वाह एक विवाद पैदा किया गया कि योगी सरकार ने इसे उत्तरप्रदेश के दर्शनीय स्थलों की सूची से बाहर क्यों कर दिया. वास्तव में प्राचीन भारत की वास्तुकला को लेकर फर्जी इतिहासकारों ने भारतीयों के मनोमस्तिष्क में इतने नकारात्मक भाव भर दिए हैं कि उन्हें विदेशी आक्रान्ताओं द्वारा बनाई गयी वास्तुकलाओं और लाशों पर बने मज़ार के ऐसे भवनों में अच्छाई दिखाई देती है, जिसके निर्माण के बाद कारीगरों के हाथ काट दिए गए हों.

Published in आलेख

पिछले भाग में आपने हिन्दुओं के इतिहास एवं हिन्दू धर्म के बारे में कुछ मूल बातें पढीं... (पिछले भाग को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें..) अब आगे पढ़िए.

Published in आलेख

हम हिन्दू किसे कहेंगे..? जो गीता जानता हो, रामायण – महाभारत जानता हो, वह..? तो फिर ऐसे अनेक हैं, जो ना तो गीता जानते हैं, और ना ही रामायण – महाभारत. फिर भी वह हिन्दू हैं..! फिर जो रोज भगवान् की पूजा करते हैं, वे हिन्दू हैं..? वैसे भी नहीं.

Published in आलेख

मध्यप्रदेश के नाम एक अभूतपूर्व घोटाला है, जिसका नाम है “व्यापमं घोटाला”. अब तक इसके बारे में लगभग सभी लोग जान चुके हैं, अब तो यह इंटरनेशनल स्तर तक भी पहुँच चुका है.

Published in आलेख
पृष्ठ 1 का 33
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें