जिन्हें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में रूचि है, उन्होंने चाफेकर बंधुओं का नाम जरूर सुना है. परन्तु चूँकि हमारी पाठ्यपुस्तकों में इन बंधुओं और इनके योगदान को उचित स्थान नहीं मिला है, इसलिए आजकल के युवाओं और बच्चों ने इनके बारे में कुछ नहीं जाना.

Published in आलेख

शीर्षक पढ़कर आप चौंक गए होंगे ना? जी बिलकुल, लेकिन भारत की तथाकथित धर्मनिरपेक्ष अदालतों का यही सच है... चूँकि आरोपी ने रोजा रखा हुआ है इसलिए उसे 29 जून तक गिरफ्तार नहीं किया जाए. पूरा मामला कुछ यूँ है...

Published in आलेख

देश के कोने कोने में हुए स्वतंत्रता आंदोलनों के बारे में कम जानकारी के चलते न जाने इतिहास के कितने पन्ने अछूते हैं. इसका कारण यह है कि हम कुछ गिने-चुने इतिहासकारों द्वारा पढाए गए मनगढ़ंत इतिहास के जाल में फँस कर रह गए हैं. स्वतंत्रता की चिंगारी को जलाए रखने के लिए बलिदानों की कई अनकही और अनसुनी गाथाएं हैं. यह इन्हीं में से एक है..

Published in आलेख

हैदराबाद में आपने कई बसें ऐसी देखी होंगी जिनका पंजीकरण नंबर अरुणाचल का है. यह परिवहन में सरकार के एकाधिकार का दोष है| अगर कभी आपने हैदराबाद से चेन्नई के बीच निजी बस ली हो, तो आपने धयान दिया होगा कि बस संभवतः किसी अन्य राज्य जैसे कि अरुणाचल प्रदेश (AR), नागालैंड (NL), पुडुचेरी (PY) या ओडिशा (OD) में रजिस्टर की हुई है|

Published in आलेख

ऐसा कहा जाता है कि प्यार, युद्ध एवं राजनीति में सब कुछ जायज़ है. जिस समय अमित शाह NDA की ओर से भारत के अगले राष्ट्रपति प्रत्याशी का नाम घोषित कर रहे थे, उस समय किसी ने भी नहीं सोचा था कि वे एक चौंकाने वाला नाम सामने लेकर आएँगे.

Published in आलेख

नोट :- प्रस्तुत लेख के लेखक गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री स्व छ्वील दास मेहता जी है, ये लेख उन्होंने कच्छमित्र दैनिक में लिखा था, जिसे मै साभार हिंदी में रूपांतरित कर रहा हूँ ताकि हर भारतीय काँग्रेस की इस गंदी सच्चाई को जान सके.

Published in आलेख

हाल ही में एक फोरम पर किसी युवा मित्र ने पूछा कि कश्मीर में मारे जा रहे आतंकियों का उपनाम "भट", "बट", "वानी", "गुरू" किस तरह से है? इसी प्रकार देश के कई भागों में मुस्लिम गुर्जर, मुस्लिम जाट तथा "पटेल" उपनाम वाले मुसलमान कैसे पाए जाते हैं? असल में उसे यह जानकारी नहीं थी कि 99 प्रतिशत "भारतीय मुसलमानों" के पूर्वज हिन्दू थे।

Published in आलेख

फर्जी इतिहासकारों और मुगलों के चाटुकारों द्वारा लिखी गई कुछ "कहानियाँ"आजकल बड़ी मात्रा में सोशल मीडिया पर तैर रही हैं, जिसके अनुसार मुगल इतिहास के सबसे क्रूर बादशाह यानी औरंगज़ेब को दयालु, मसीहा वगैरह साबित करने की फूहड़ कोशिश की जाती है.

Published in आलेख

आजकल अरुण शौरी चर्चा में हैं. जब से उन्होंने NDTV पर पड़े छापों के खिलाफ मोदी सरकार की आलोचना की है और वामपंथियों के साथ एक मंच पर दिखाई दिए हैं, तभी से मोदी समर्थकों द्वारा उनके खिलाफ गालीगलौज और निम्न स्तर की टिप्पणियाँ की जा रही हैं.

Published in आलेख

इस लेख में यहां कुछ अंश ‘बाबरनामा’ से देना चाहेंगे, जिनसे बाबर के भारत के विषय में विचारों पर अच्छा प्रकाश पड़ता है। मूल सन्दर्भ है "बाबरनामा - अनु रिजवी".

Published in आलेख
पृष्ठ 1 का 25
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें