विश्लेषक हैरान हैं कि आखिर पिछले दो वर्षों में ऐसा क्या हुआ है कि भाजपा उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी अपना आधार बनाने में सफल हो रही है. असम एक शुरुआत थी, लेकिन देखते ही देखते अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में भी भाजपा ने पैर पसार लिए हैं. आखिर भाजपा के हाथ में ऐसा कौन सा जादू लग गया है?

Published in आलेख

सत्ता की भनक सूँघने में कांग्रेसियों से ज्यादा माहिर कोई नहीं होता, इसलिए आज यदि कई कांग्रेसियों को लग रहा है कि राहुल गाँधी उन्हें सत्ता दिलवाने में नाकाम हो रहे हैं तो षड्यंत्र और गहराएँगे. काँग्रेस पार्टी और खासकर राहुल गाँधी को सबसे पहले “अपने घर” पर ध्यान देना चाहिए. एकाध बार तो ठीक है, परन्तु हमेशा खामख्वाह दाढ़ी बढ़ाकर प्रेस कांफ्रेंस में एंग्री यंगमैन की भूमिका उनके लिए घातक सिद्ध हो रही है. 

Published in ब्लॉग