बुधवार, 21 मार्च 2007 16:26

एक दिन सन २०२८ का

"स्व-आचार संहिता" : (यह लेख नईदुनिया इन्दौर में ३०.०४.२००६ को प्रकाशित हो चुका है) यह लेख / चुटकुला / घटना... एक ई-मेल पर आधारित / अनुवादित है, जिसके लेखक की मुझे जानकारी नहीं है । यदि कोई इसके मूलस्रोत के बारे में जानता हो तो कृपया मुझे सप्रमाण लिंक मेल करें, ताकि उसे इस लेख में जोडा़ जा सके ।
----------------------------
जैसे-जैसे जीवन की गति तेज होती जा रही है, हमारे आसपास कम्प्यूटर का उपयोग बढने लगा है, ठीक इसी प्रकार प्रत्येक विभाग में कम्प्युटरीकरण द्वारा जानकारियाँ अथवा "डाटा" एकत्रित करने एवं उन जानकारियों को "प्लास्टिक कार्ड" में भरने का काम तेजी से हो रहा है, जिसे "कम्प्यूटराइज्ड रेकॉर्ड" कहा जाने लगा है, ताकि ग्राहकों, उपभोक्ताओं और आम जनता को कम से कम तकलीफ़ हो और समय की बचत हो, लेकिन यह कष्टदायी भी हो सकता है... कैसे आईये देखें....
कल्पना कीजिये कि सन २०२८ में एक ग्राहक किसी पिज्जा केन्द्र में फ़ोन करके पिज्जा मँगवाना चाहता है -
ऑपरेटर : पिज्जा के लिये फ़ोन करने का धन्यवाद, मैं आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ ?
ग्राहक : क्या मैं पिज्जा का ऑर्डर....!
ऑपरेटर : कृपया पहले अपने बहुउपयोगी "स्मार्ट कार्ड" का नम्बर बतायें ।
ग्राहक : ओह... एक मिनट... नम्बर है ७८९७०९३४५-८९६७-९००८६३४ ।
ऑपरेटर :ओके, आप मि. सिंह हैं, जो कि १७, बडा़ कॉम्पलेक्स, आजाद नगर, उज्जैन से बोल रहे हैं । आपका फ़ोन नम्बर २५८७६९३, ऑफ़िस का २५६९८०० और मोबाईल ९८७६५३४५६० है ?
ग्राहक : ये सारे नम्बर आपको कैसे पता चले ?
ऑपरेटर : सर, हम शहर के मुख्य सर्वर से जुडे हुए हैं ।
ग्राहक : अच्छा, मैं एक चिकन पिज्जा का ऑर्डर देना चाहता हूँ...
ऑपरेटर : यह आपके लिये ठीक नहीं है ।
ग्राहक : कैसे ?
ऑपरेटर : आपके कम्प्यूटराइज्ड मेडिकल डाटा के अनुसार आपको ब्लड प्रेशर की शिकायत है और आपका कोलेस्ट्रोल भी बढा हुआ है ।
ग्राहक : ठीक है, ठीक है, फ़िर आप क्या सुझाव देते हैं ?
ऑपरेटर : आपको सलाद पिज्जा मँगवाना चाहिये, वह आप पसन्द करेंगे ।
ग्राहक : आपको कैसे मालूम ?
ऑपरेटर : अभी पिछले हफ़्ते आपने सेंट्रल लायब्रेरी से "सलाद पिज्जा कैसे बनायें" की किताब ली है ।
ग्राहक : (लगभग हार मानते हुए) ठीक है तीन फ़ैमिली साइज के सलाद पिज्जा भिजवा दीजिये, कितना पेमेंट हुआ ?
ऑपरेटर : हाँ यह ठीक है, आपकी नौ लोगों की फ़ैमिली के लिये । वैसे कुल कीमत होगी 5५0 रुपये ।
ग्राहक : क्या मैं क्रेडिट कार्ड से चुका सकता हूँ ?
ऑपरेटर : नहीं सॉरी सर, सिर्फ़ कैश, क्योंकि आपके क्रेडिट कार्ड की सीमा समाप्त हो चुकी है, और आप पर सत्रह हजार का क्रेडिट है ।
ग्राहक : फ़िर तो मुझे ATM तक जाना होगा और कैश लाना होगा ।
ऑपरेटर : आप वह भी नहीं कर सकते, क्योंकि कैश निकालने की प्रतिदिन की सीमा भी आप आज पार कर चुके हैं ।
ग्राहक : (मन ही मन @&*(&#(*^$(^&^) ठीक है आप पिज्जा तो भिजवाईये, मैं कैश ही पेमेंट करता हूँ, कितना समय लगेगा ।
ऑपरेटर : लगभग पैंतालीस मिनट, यदि आपको जल्दी हो तो आप अपनी लाल वाली बाईक से आ सकते हैं, क्योंकि आपकी कार तो आज रिपेरिंग को गई है ।
ग्राहक : ??????????
ऑपरेटर : और कुछ सर ?
ग्राहक : नहीं... वैसे आप मुझे कोक की तीन बोतलें तो मुफ़्त में देंगे ना, जो विज्ञापन में दिखाते हैं ।
ऑपरेटर : वैसे तो हम देते हैं लेकिन आपके इंश्योरेंस के मेडिकल रेकॉर्ड के मुताबिक आपको गैसेस की भी शिकायत है, इसलिये .....
ग्राहक : (अब तो पूरी तरह भड़क जाता है) अबे तेरी तो %^&&*&^%$
ऑपरेटर : सर अपनी भाषा पर कंट्रोल कीजिये, याद कीजिये अपनी जवानी में एक बार 15 जुलाई 2006 को एक पुलिसवाले को गाली देने के जुर्म में आप पर जुर्माना हो चुका है ।
अब तो ग्राहक बेहोश ही हो जाता है ।
तो मित्रों, यह नतीजा होगा... "सेंट्रली कम्प्यूटराइज्ड पर्सन रिकार्ड सिस्टम" का.....
Published in ब्लॉग
मंगलवार, 20 फरवरी 2007 14:54

शाणे बनो.... लेकिन सही जगह पर...

"शाणा", इस शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई, कहाँ से हुई यह तो शोध का विषय हो सकता है, क्योंकि मराठी भाषा में "शहाणा" शब्द बुद्धिमान और चतुर व्यक्ति के लिये उपयोग किया जाता है । लगभग यही भाव हिन्दी में "सयाना" से उधृत होता है और हो सकता है कि यह शब्द भी मराठी भाषा से ही प्रेरित हो । लेकिन इस शब्द का अपभ्रंश होते-होते अब यह "सयाना" से "शाणा" हो गया है । यह शब्द पिछले कुछ समय से ही आम प्रचलन में आया है, लेकिन जब से आया है, चारों तरफ़ छा गया है ।

Published in ब्लॉग