यह निर्विवाद है कि भारत की अति प्राचीन सामाजिक व्यवस्था पूरी दुनिया की तुलना में अधिक विकसित तथा वैज्ञानिक थी। उस समय भारत वैज्ञानिक मामलों में भी दुनिया में उपर था, सामाजिक मामलों में तो था ही।

Published in आलेख

पाकिस्तान में पैदा हुई पैंतीस वर्षीय एक औरत ताहिरा मकबूल ने अपने जीवन में पहली बार मतदान किया, वो भी भारत में. आप सोच रहे होंगे, इसमें हैरान करने वाली क्या बात है?? बात यह है कि ताहिरा मकबूल एक "अहमदिया मुसलमान" हैं.

Published in ब्लॉग

इस्लाम में तमाम तरह की ऊँच-नीच और जाति प्रथा होने के बावजूद अपना घर सुधारने की बजाय, उन्हें हिन्दू दलितों की “नकली चिंता” अधिक सताती है. विभिन्न फोरमों एवं सोशल मीडिया में असली-नकली नामों तथा वामपंथी बुद्धिजीवियों के फेंके हुए बौद्धिक टुकड़ों के सहारे ये मुस्लिम बुद्धिजीवी हिंदुओं में दरार बढ़ाने की लगातार कोशिश करते रहते हैं. जबकि इनके खुद के संस्थानों में इन्होंने दलितों के लिए दरवाजे बन्द कर रखे हैं.

Published in ब्लॉग
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें