top left img

पश्चिम बंगाल एक बेहद गंभीर मोड़ पर पहुँच चुका है, और यदि जल्दी ही कुछ न किया गया तो इसे “इस्लामिक बांग्लादेश” में बदलते देर नहीं लगेगी.

Published in ब्लॉग

जैसा कि सभी जानते हैं वामपंथ का घोष वाक्य है “सत्ता बन्दूक की नली से निकलती है”. वामपंथ का कभी भी लोकतंत्र, लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं, पद्धतियों, न्यायालयों अथवा चर्चाओं पर भरोसा नहीं रहा है. भारत के बंगाल में ज्योति बसु नामक व्यक्ति ने वामपंथ को बंगाल में ऊँचाईयों तक पहुंचाया और अपनी कुख्यात हिंसा और हिंसक कार्यकर्ताओं के सहारे तीस वर्ष तक बंगाल में शासन किया.

Published in आलेख
न्यूज़ लैटर के लिए साइन अप करें